Chand Par Kon Kon Gaya Hai | चाँद पर सबसे पहले कौन गया था

आप लोगो ने कही बार इंटरनेट में सर्च करते हो chand par kon kon gaya hai google, कौन कौन गया है चंद्रमा पर कौन कौन गया है?, चांद पर किसका घर है?, chand par kon kon gaya hai unki photo, chand dharti se kitna dur hai, chand par kon kon gaya hai koi ladki nahin gai यैसे सभी प्रश्न के उतार आप लोगो के साथ सेयर करने का कोसिस किया है

चांद पर कौन-कौन गया है

Neil Armstrong NASA के सबसे कुशल अंतरिक्ष यात्रियों में से एक थे। २० जुलाई १९६९ को जब वह एक Astronaut अंतरिक्ष यात्री के रूप में चंद्रमा पर कदम रख रहे थे, Mission पर हजारों लोगों की धड़कन तेज हो गई। इस मिशन की सफलता Neil Armstrong के कौशल और परिस्थितियों को संभालने की क्षमता के कारण सफलता मिली थी।

20 जुलाई 1969 को इन अमेरिकी अंतरिक्ष यात्रियों ने चांद पर कदम रख कर history रच दिया था। Neil Armstrong के चांद पर उतरने के बाद से अब तक 12 लोग चांद पर उतर चुके हैं।

chand par kon gaya hai

Neil Armstrong– हम में से ज्यादातर लोग जानते हैं कि Neil Armstrong चांद पर कदम रखने वाले पहले व्यक्ति थे। Neil Armstrong अंतरिक्ष यात्री और अमेरिकी सैनिक थे, बल्कि वे एक प्रोफेसर भी थे। नासा से सेवानिवृत्त होने के बाद उन्हें एक कॉलेज भेजा गया था। 1930 में पैदा हुए नील आर्मस्ट्रांग का 2012 में निधन हो गया।

Buzz Aldrin– Buzz Aldrin चांद पर पहुंचने वाले दूसरे शख्स हैं। वह Neil Armstrong के साथ Apollo 11 mission पर भी गए थे। वह इस समय अमेरिका के फ्लोरिडा में रह रहे हैं।

Pete Conrad– पीट कॉनराड चांद पर कदम रखने वाले दुनिया के तीसरे शख्स हैं। वह Apollo-12 का हिस्सा था। वह 1969 में चांद पर उतरे थे। 1999 में एक मोटरसाइकिल दुर्घटना में उनकी मौत हो गई थी।

Alan Bean– चांद पर पहुंचने वाले चौथे शख्स हैं Alan Bean। वह Apollo-12 के जरिए चांद पर पहुंचा था। वह 1981 में नासा से सेवानिवृत्त हुए। 2018 में 86 साल की उम्र में उनका निधन हो गया।

Alan shepherd– एलन शेफर्ड चांद पर कदम रखने वाले पांचवें शख्स हैं। वह 1971 में Apollo 14 mission के जरिए चांद पर उतरे थे। इससे पहले 1961 में वे अंतरिक्ष में जाने वाले पहले अमेरिकी नागरिक बने थे। 1998 में उनकी मृत्यु हो गई।

Edgar Mitchell- Apollo 14 mission का हिस्सा रहे Edgar Mitchell  चांद पर कदम रखने वाले छठा शख्स हैं। वह 1971 में चांद पर उतरे थे। 2016 में उनका निधन हो गया।

David Scott-  Apollo 15 mission के कमांडर David Scott चंद्रमा पर पहुंचने वाले सातवें व्यक्ति हैं। वह चंद्रमा पर उतरने वाले एकमात्र जीवित अपोलो मिशन कमांडर हैं।

chand par kon kon gaya hai google

James Irwin– चंद्रमा पर कदम रखने वाले आठवें व्यक्ति James Irwin हैं। वह Apollo 15 mission के सदस्य भी थे। 1991 में उनकी मृत्यु हो गई। चांद पर पहुंचने वाले सबसे जल्दी से मरने वाले अंतरिक्ष यात्री जेम्स इरविन हैं।

John Young– जॉन यंग चांद पर पहुंचने वाले नौवें व्यक्ति हैं। वह अप्रैल 1972 में चांद पर उतरे थे। वह नासा के Apollo 16 मिशन के कमांडर थे। 2018 में उसकी मृत्यु हो गई।

Charles Duke– चंद्रमा पर पहुंचने वाले दसवें व्यक्ति Charles Duke हैं। वह Apollo 16 का भी हिस्सा थे। वह इस समय टेक्सास में रह रहा है।

Harrison smith – चंद्रमा पर कदम रखने वाले 11वें व्यक्ति हैं। वह Apollo 17 मिशन के जरिए चांद पर पहुंचे थे। वह अब न्यू मैक्सिको में रहता है।

Eugene cernan– यूजीन सर्नन चंद्रमा पर कदम रखने वाले 12वें व्यक्ति हैं। वह चंद्रमा पर पहुंचने वाले अंतिम व्यक्ति भी हैं। वह Apollo 17 के सदस्य थे। 2017 में उनकी मृत्यु हो गई।

sabse pahle chand par kon gaya hai ( सबसे पहले चांद पर कौन गया है? )

Neil Armstrong NASA के सबसे कुशल अंतरिक्ष २० जुलाई १९६९ को Astronaut के रूप में चंद्रमा पर कदम रख रहे थे, Mission पर हजारों लोगों की धड़कन तेज हो गई। Neil Armstrong ने आसानी से अपना यान चंद्रमा की सतह पर उतार दिया। यह मनुष्य के लिए एक लंबी छलांग थी। नील ने अपने मिशन के बारे में एक इंटरव्यू में कहा कि ये सफलता हजारों लोगों के योगदान के कारण मिली है।

NASA का अनुसार अपोलो 11 मिशन में लगभग 400,000 लोग शामिल थे। शामिल लोग में अंतरिक्ष यात्रियों से लेकर मिशन नियंत्रकों, इंजीनियरों, वैज्ञानिकों, नर्सों, डॉक्टरों, गणितज्ञों तक की सङ्कग्या थी।

Neil के साथ Buzz Aldrin

चांद पर यान ने दो लोगों को ले गई थी। Neil Armstrong  भी Buzz Aldrin के साथ थे। मिशन के दौरान हर समय 20-30 लोगों की एक कोर टीम सक्रिय रहती थी। इसके अलावा, बोस्टन में Massachusetts Institute of Technology के सलाहकारों की एक टीम को NASA के ह्यूस्टन मुख्यालय में तैनात किया गया था।

नील 38 साल के थे जब वो चांद पर उतरे थे। जॉन ग्लेन पृथ्वी की परिक्रमा करने वाले पहले Astronaut Astronaut अंतरिक्ष यात्री भी थे। 77 साल की उम्र में, वह 1998 में Space Shuttle Discover से अंतरिक्ष में जाने वाले सबसे उम्रदराज व्यक्ति थे।

11 मिशनों में Apollo के 33 Astronaut अंतरिक्ष यात्री थे। इनमें से 27 चांद पर पहुंचे और 24 ने चांद की परिक्रमा की। 12 अंतरिक्ष यात्रियों को चांद पर कदम रखने का मौका मिला।

चंद्रमा की यात्रा करने वाले वैज्ञानिकों के जीवन में कई दिलचस्प घटनाएं हुई हैं। उसमे पारिवारिक तनाव भी है। उनमें से एक चार्ली ड्यूक Charlie Duke है। इस यात्रा के दौरान ड्यूक को अपनी पत्नी के साथ संबंध तोड़ना पड़ा। एक अन्य Astronaut अंतरिक्ष यात्री जापानी सरनन का बीबी के साथ तलाक हो गया था। बज़ एल्ड्रिन शराब और अवसाद से पीड़ित थे। पता चला कि चांद पर उतरने वाले 12 Astronaut अंतरिक्ष यात्री हमेशा के लिए बदल गए और आंका जीबन में बहुद कुछ उतार चढाब आया।

अपोलो 11 से यात्रा करने वाले अंतरिक्ष यात्री कौन कौन थे?

Apollo mission की कहानी में कहीं भी महिलाओं का बारे में ज्यादा नहीं बोला है। मिशन के सभी Astronaut अंतरिक्ष यात्री पुरुष थे। मिशन नियंत्रक सहित पुरुष। टीवी प्रस्तोता भी पुरुष है।

लेकिन कुछ महिलाओं को टेलीविजन पर भी देखा गया। ये महिलाएं अंतरिक्ष यात्रियों की पत्नियां थीं। इस अभियान में हजारों महिलाएं शामिल थीं। मिशन को सफल बनाने में उनका अहम योगदान था। इसमें नर्सें भी थीं। कुछ महिला गणितज्ञ Mathematician भी मिशन में शामिल हुईं थी।

मिशन प्रोग्रामर्स की ओर से महिलाओं को अंतरिक्ष यात्रियों के स्पेस सूट सिलने की जिम्मेदारी दी गई थी। Mission controllers के लिए तार बिछाने के प्रोजेक्ट में कई महिलाएं शामिल थीं।

वह Cape Canberra मिशन कंट्रोल में एक महिला इंजीनियर थीं। उनका काम 21 संचार चैनलों को बनाए रखना था। उसका नाम जोन मॉर्गन रखा गया और उसने मिशन में बहुत योगदान दिया। कार्यस्थल पर महिलाओं के लिए कोई अलग कमरा या शौचालय नहीं था।

अपोलो इलेवन कब लॉन्च हुआ था?

मिशन की सोच जुलाई 1960 में शुरू किया गया था। उस समय कोई भी मनुष्य चाँद पर नहीं उतरा था। NASA के पास Mercury Mission को लॉन्च करने के लिए तीन साल बाकी थे। और Apollo mission की 1961 में शुरू हुआ था। मल्टीबिलियन-डॉलर की परियोजना उस समय NASA का सबसे महत्वपूर्ण मिशन था। इसमें हजारों वैज्ञानिकों ने भाग लिया। अंत में 33 अंतरिक्ष यात्रियों को चुनकर तामिल दी गई थी।

अंतरिक्ष यात्री क्या खाते हैं?

Mission के दौरान अंतरिक्ष यात्रियों ने क्या खाते और उन्होंने पेशाब लागग्या तो क्या करते है ?

NASA के पहले Astronaut अंतरिक्ष यात्री एलन शेपर्ड ने 1961 में अपनी उड़ान भरी थी। उड़ने से पहले उनके जैसे यात्रियों को भरपूर खाना खिलाया जाता था। यात्रियों को पौष्टिक और उच्च कैलोरी वाला भोजन खिलाया गया। जिसमें फाइबर कम होने लगता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि उन्हें उड़ते समय शौच (शौच) करने की आवश्यकता नहीं होती है।

मिशन से पहले भी अंतरिक्ष यात्रियों को कॉफी पीने की इजाजत नहीं है। पहले मिशन में एक ऐसी घटना हुई कि पेशाब न करने के अनुमान पूरी तरह फेल हो गया था ।

अंतरिक्ष में क्या है टॉयलेट की व्यवस्था

पहला मिशन केवल 15 मिनट का था। डॉक्टर ने सोचा कि शेपर्ड इतना समय बचा पाएगा। लेकिन गिनती खत्म होने से पहले ही समस्या आ गई। जैसे ही वह अंतरिक्ष में पहुंची, शेपर्ड को  पेशाब डॉ बहुद मुश्किल हुवा।  दो घंटे बाद उन्होंने मिशन के कंट्रोल रूम से पेशाब करने की इजाजत मांगी। केवल एक बार नहीं, बल्कि बार-बार उसने ऐसा करने की अनुमति मांगी। अंत में, NASA के नियंत्रण ने उन्हें अपने कपड़ों पर पेशाब करने की अनुमति दी। उन्होंने अपने कपड़ों पर पेशाब करते हुए कहा कि पेशाब करने के लिए कोई Additional provisions कुछ सुभीधा नहीं है। नतीजतन क्या हुवा उनके स्पेससूट का मेडिकल सेंसर खराब हो गया।

इस घटना से सीख लेते हुए NASA ने अपोलो मिशन पर अंतरिक्ष यात्रियों पेशाब करने के लिए कंडोम जैसा बैग व्यवस्था की। NASA ने अंतरिक्ष यात्रियों को पेशाब करने के लिए कंडोम जैसा बैग मुहैया कराया है। यात्रियों के पेशाब करने के बाद उसका निस्तारण किया जा सके इसी तरह शौच के लिए प्लास्टिक की बैग दी गई।  अंतरिक्ष यात्रियों तभी शौच करते थे जब उनका रुकना नामुमकिन होता था।

1972 के बाद चांद पर कोई क्यों नहीं गया?

चंद्रमा पर पहला कदम रखने वाले व्यक्ति ने कहा यह मानवता के लिए एक छोटा कदम होगा, समग्र रूप से मानव जाति के लिए एक बड़ी छलांग, ।

जिस दिन नील आर्मस्ट्रांग ने चांद पर कदम रख कर इतिहास रच दिया था। इसके बाद पांच और अमेरिकी अंतरिक्ष मिशन चंद्रमा पर भेजे गए। 1972 में चांद पर पहुंचने वाले यूजीन सेर्सन अब तक के आखिरी अंतरिक्ष यात्री हैं।

लेकिन लगभग आधी सदी बाद, संयुक्त राज्य अमेरिका ने घोषणा की है कि वह एक मानवयुक्त अंतरिक्ष यान को वापस चंद्रमा पर भेजेगा। राष्ट्रपति ट्रम्प ने इस आशय के एक प्रस्ताव पर हस्ताक्षर किया था। संयुक्त राज्य अमेरिका या किसी अन्य देश ने आधी सदी तक अंतरिक्ष यात्रियों को चंद्रमा पर क्यों नहीं भेजा?

इस प्रश्न का उत्तर खोजते समय वित्तीय मामले एक साथ आते हैं। यानी बजट सबसे बड़ी बाधा नजर आ रहा है. क्योंकि लोगों को चांद पर भेजना बहुत महंगा काम है। University of California, Los Angeles कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय, लॉस एंजिल्स में Astronomy खगोल विज्ञान के प्रोफेसर माइकल रिच Professor Michael Rich ने कहा, “एक आदमी को चंद्रमा पर भेजने के लिए एक अकल्पनीय राशि खर्च होती है, लेकिन इससे वैज्ञानिक को उतना लाभ नहीं हुआ।”

google chand par kon kon gaya hai

संयुक्त राज्य अमेरिका के मामले में, 2004 में राष्ट्रपति डब्ल्यू जॉर्ज डब्ल्यू बुश ने, ट्रम्प प्रशासन की तरह, चंद्रमा के लिए एक मानवयुक्त missions का प्रस्ताव रखा। इसके लिए 110,000 करोड़ का अनुमानित बजट रखा गया था। हालांकि, बुश प्रशासन मिशन के लिए भारी बजट जुटाने में असमर्थ होगया, और उस समय अंतरिक्ष यात्रियों को चंद्रमा पर भेजने के लिया कोही भी काम नहीं हुवा। कम वैज्ञानिक लाभ और अधिक खर्च वाले ऐसे missions पर काम करना सभी निकाय की सहयोग अनिवार्य है।

वर्षों से, नासा कई नए उपग्रहों की खोज कर रहा है, बृहस्पति पर शोध कर रहा है, International Space Station को अंतरिक्ष में लॉन्च कर रहा है और अन्य बिसय शोध कर रहा है। इससे Moon-mission के टलने की संभावना भी बढ़ गई है।

चाँद पर पहुचने में कितना समय लगता है?

दूसरे शब्दों में, नासा यह तर्क देता रहा है कि एक मानवयुक्त मिशन को फिर से चंद्रमा पर भेजना आवश्यक है। उनका तर्क है किम चंद्रमा पर पहुंचने से कई नए रहस्य खुल सकते हैं। इसने मानवयुक्त वाहनों को चंद्रमा पर भेजने में भी रुचि जगाई है। न केवल सरकारी और निजी क्षेत्र की ओर से काफी प्रयास किए गए हैं, बल्कि चंद्रमा पर मानव बसने की महत्वाकांक्षी योजनाएं भी की गई हैं। चांद से चट्टानों और खनिजों को पृथ्वी पर लाने और उन्हें ऊंचे दामों पर बेचने का मुद्दा भी उठाना शुरू कर दिया है। ऐसे मामलों में नासा खुद को क्यों पीछे छोड़ना चाहता था? हालांकि, मामला आखिरकार बजट पर ही अटका हुआ है। आखिर कर १९७२ के बाद किसी भी देस सस्था MOON पर किसी भी कार्य करने में असमर्थ रहे है।

Leave a Comment