What is Computer In Hindi | Computer क्या है? Full Info

what is computer network in hindi, computer ka hindi naam kya hai, computer ka full form kya hai, computer kya hota hai, कंप्यूटर हार्डवेयर क्या है उदाहरण दो, computer network kya hai, कंप्यूटर कितने प्रकार का होता है, super computer kya hai, कंप्यूटर क्या है हिंदी, computer ka hindi kya hota hai, कंप्यूटर की विशेषता क्या है

कंप्यूटर क्या है और कंप्यूटर की विशेषता

हम अपने दैनिक जीवन में विभिन्न कार्यों को करने के लिए विभिन्न प्रकार की मशीनों का उपयोग करते हैं। आज हम जिन मशीनों का उपयोग कर रहे हैं उनमें से अधिकांश Electronic Machinery हैं जैसे कैलकुलेटर, टेलीविजन, मोबाइल फोन, कैमरा आदि। Computer  भी एक Electronic Machine है। अधिकांश मशीनें एक ही कार्य कर सकती हैं लेकिन Computer  कई कार्य कर सकता है।

Computer  हमारे दैनिक जीवन में एक प्रमुख भूमिका निभा रहा है। आजकल Computer  का उपयोग लगभग सभी क्षेत्रों जैसे घर, स्कूल, कार्यालय, अस्पताल, बैंक, दुकान, उद्योग आदि में किया जाता है।

Computer Kya Hai?

"<yoastmark

‘Computer ‘शब्द लैटिन भाषा के “कम्प्यूटर” शब्द से बना है, जिसका अर्थ है “गणना करना”। ‘Computer ‘ नाम मूल रूप से उन लोगों को दिया गया था जिन्हें बहुत सारी गणनाएँ करनी पड़ती थीं। मैन्युअल रूप से गणना करने वाला कार्य बहुत कठिन और उबाऊ था। इसलिए, वैज्ञानिक हमेशा एक ऐसी मशीन विकसित करना चाहते थे जो सटीक और बहुत तेजी से गणना कर सके। इसी सोच के परिणामस्वरूप वैज्ञानिकों ने ABACUS नामक एक मशीन विकसित की। यह दुनिया का पहला गणना करने वाला उपकरण था। एक आधुनिक Computer  को इस प्रकार परिभाषित किया जा सकता है। Computer  एक Electronic Machine है जो Input के रूप में डेटा और निर्देश प्राप्त करता है, निर्देशों के अनुसार डेटा को संसाधित करता है, और परिणामस्वरूप सार्थक जानकारी उत्पन्न करता है। एक Computer  में चार बुनियादी भाग होते हैं। वे कीबोर्ड, माउस, सिस्टम यूनिट और मॉनिटर हैं।

Computer कैसे काम करता है?

एक Computer कई कार्य कर सकता है। लेकिन Computer स्वयं काम work  नहीं कर सकता है। आपको Computer  को निर्देश देकर बताना है कि क्या करना है।

पूर्व-निर्धारित निर्देश जो Computer में संग्रहीत होते हैं, प्रोग्राम कहलाते हैं। परिणाम उत्पन्न करने के लिए Computer इन प्रोग्राम निर्देशों का उपयोग करके डेटा को संसाधित करता है। डेटा वह Input है जो आपने Computer को दिया है।

Computer  Input, प्रोसेस और Output के आधार पर काम करता है। यह सभी Computer का मूल कार्य के सिद्धांत है।

Input, प्रोसेस और Output क्या है?

अधिकांश मशीनें अपना काम तीन चरणों में करती हैं: Input, प्रोसेस और Output। ये समझने के लिए एक उदाहरण लेते हैं

आप के घर में एक रेफ्रिजरेटर है।  तो हम उस रेफ्रिजरेटर के कार्य को समजते है.

मान लीजिए आपको दूध से आइसक्रीम बनानी है। रेफ्रिजरेटर इस कार्य को करने के लिए इन तीन मुख्य चरणों का पालन करता है

1: Input- सबसे पहले आप कुछ दूध को फ्रिज में रख दें। यहां दूध वह Input है जो आप रेफ्रिजरेटर को देते हैं।

2: Process- इसके बाद, आप रेफ्रिजरेटर को बंद करें और उस पर स्विच करें। फ्रिज दूध को ठंडा करता है। शीतलन वह Process है जो रेफ्रिजरेटर करता है।

3-Output- अंत में, आपको आइसक्रीम मिलेगी। आइसक्रीम वह Output है जो आपको इस Process से मिलता है।

Computer की कार्यप्रणाली
रेफ्रिजरेटर के कार्य

Computer का कार्य

 उसी प्रकार Computer पना कार्य इनपुट प्रोसेस और आउटपुट सिद्धांत के आधार पर करता है।

Input= आप कोई भी डेटा देते हैं और Computer को एक निर्देश इनपुट कहलाता है। आप इनपुट डिवाइस जैसे की-बोर्ड, माउस, जॉयस्टिक, स्कैनर, वेब कैमरा आदि के माध्यम से Computer को इनपुट दे सकते हैं।

Process – Computer दिए गए निर्देशों के अनुसार डेटा पर काम करता है। इसे प्रोसेसिंग कहते हैं। प्रोसेसिंग सीपीयू (सेंट्रल प्रोसेसिंग यूनिट) द्वारा की जाती है।

Output- Computer डेटा को प्रोसेस करने के बाद सार्थक परिणाम देता है जिसे आउटपुट कहा जाता है। Computer  आउटपुट डिवाइस जैसे मॉनिटर, प्रिंटर आदि के माध्यम से आउटपुट देता है।

Computer की कार्यप्रणाली समझने के लिए एक उदाहरण लेते हैं. निचे इमेज में देख सकते हो। 

computer kya hai
working of computer- Computer की कार्यप्रणाली

Computer कोई साधारण Machine नहीं है, यह एक स्मार्ट Machine है। कंप्यूट सबसे शक्तिशाली Machine है क्योंकि इसमें कई विशेष विशेषताएं हैं Computer की कुछ विशिष्ट विशेषताएं जो इसे स्मार्ट Machine बनाती हैं, इस प्रकार हैं

  • High Speed– Computer बहुत तेजी से कार्य कर सकता है। यह एक सेकेंड में अरबों कैलकुलेशन कर सकता है। Computer की प्रोसेसिंग स्पीड मेगाहर्ट्ज (मेगाहर्ट्ज) या गीगाहर्ट्ज (गीगाहर्ट्ज) में मापी जाती है।
  • Accuracy – Computer एक सटीक Machine है। यह कोई गलती नहीं करता है। हालाँकि, इसकी सटीकता पूरी तरह से दिए गए निर्देशों और इनपुट Data पर निर्भर है। यदि Computer  को दिए गए Data और निर्देश सही हैं, तो यह हमेशा सही परिणाम या आउटपुट देगा। यदि इनपुट Data गलत है तो आउटपुट भी गलत होगा।
  • Diligent– Computer बिना किसी आराम के लंबे समय तक लगातार काम कर सकता है। यह अपनी गति और सटीकता खोए बिना एक ही कार्य को बार-बार (बार-बार) कर सकता है। तो, इसे एक मेहनती Machine कहा जाता है।
  • Versatile-एक Computer एक साथ विभिन्न प्रकार के कार्यों को एक साथ कर सकता है। तो, इसे एक बहुमुखी Machine कहा जाता है। यह कई कार्य कर सकता है जैसे गणना करना, चित्र बनाना, खेल खेलना, संगीत खेलना, पत्र लिखना, ई-मेल भेजना आदि।
  • High Storage capacite- Computerमें उच्च store  क्षमता होती है। यह भविष्य में उपयोग के लिए बड़े पैमाने पर Data और कार्यक्रमों को स्थायी रूप से संग्रहीत कर सकता है। संग्रहीत Data और प्रोग्राम आगे के उपयोग के लिए किसी भी समय उपलब्ध हैं।
  • Communication– संचार के लिए Computer  का उपयोग किया जाता है। यह Computer की सबसे महत्वपूर्ण विशेषता है। आज के समय में पूरी दुनिया में Internet के माध्यम से संदेशों का आदान-प्रदान करने के लिए Computer का उपयोग किया जाता है। Internet के माध्यम से, आप दुनिया भर में तुरंत जानकारी प्राप्त कर सकते हैं या भेज सकते हैं। आप Computer और Internet  का उपयोग करके दुनिया भर के लोगों से बात कर सकते हैं।

Where are Computers used?

आजकल कम्प्यूटर का प्रयोग विभिन्न क्षेत्रों में किया जाता है। कुछ क्षेत्रों में जहां Computer का व्यापक रूप से उपयोग किया जाता है, नीचे चर्चा की गई है.

Home – घरों में Computer का उपयोग निम्नलिखित उद्देश्यों के लिए किया जाता है।

  • पत्र लिखना और दस्तावेज तैयार करना।
  • विभिन्न प्रकार के चित्र बनाने के लिए।
  • Internet और ई-मेल का इस्तेमाल करना।

High Storage capacity – Computer  में उच्च store  क्षमता होती है। यह भविष्य में उपयोग के लिए बड़े पैमाने पर Data और कार्यक्रमों को स्थायी रूप से संग्रहीत कर सकता है। संग्रहीत Data और प्रोग्राम आगे के उपयोग के लिए किसी भी समय उपलब्ध हैं।

Communication – संचार के लिए Computer का उपयोग किया जाता है। यह Computer की सबसे महत्वपूर्ण विशेषता है। आज के समय में पूरी दुनिया में Internet के माध्यम से संदेशों का आदान-प्रदान करने के लिए Computer का उपयोग किया जाता है। Internet के माध्यम से, आप दुनिया भर में तुरंत जानकारी प्राप्त कर सकते हैं या भेज सकते हैं। आप Computer और Internet का उपयोग करके दुनिया भर के लोगों से बात कर सकते हैं।

विद्यालय- विद्यालयों में कम्प्यूटरों का प्रयोग निम्नलिखित उद्देश्यों के लिए किया जाता है। छात्रों और शिक्षकों का रिकॉर्ड रखना।

  • परीक्षा पत्र और परिणाम तैयार करने के लिए।
  • शुल्क बिल और वेतन पत्रक तैयार करना।

 

कार्यालय – कार्यालय में Computer का उपयोग निम्नलिखित उद्देश्यों के लिए किया जाता है।

  • विभिन्न प्रकार के दस्तावेज तैयार करना।
  • कर्मचारियों का रिकॉर्ड रखना।
  • खाता बही बनाए रखने के लिए।

 

अस्पताल– अस्पतालों में Computer का उपयोग निम्नलिखित उद्देश्यों के लिए किया जाता है।

  • मरीजों और स्टाफ का रिकॉर्ड रखना।
  •  विभिन्न नैदानिक ​​परीक्षण करने के लिए।
  • मरीजों की बीमारियों का पता लगाना और उनका इलाज करना।

 

बैंक- बैंकों में Computer का उपयोग निम्नलिखित उद्देश्यों के लिए किया जाता है।

  • ग्राहकों और कर्मचारियों का रिकॉर्ड रखना।
  • एटीएम की सुविधा उपलब्ध कराना।
  • ग्राहकों का हिसाब रखना।

 

पुस्तकालय- पुस्तकालयों में Computer का उपयोग निम्नलिखित उद्देश्यों के लिए किया जाता है।

  •  किताबों का रिकॉर्ड रखना।
  •  जुर्माना और अन्य शुल्क की गणना करने के लिए।
  •  पुस्तकालय में उपलब्ध पुस्तकों की खोज करना।

 

दुकान- दुकानों पर Computer का उपयोग निम्नलिखित उद्देश्यों के लिए किया जाता है।

  • माल का रिकॉर्ड रखना।
  •   बिल तैयार करना।
  •  स्टॉक की जांच करने के लिए।

Important Points to Computer

  • Computer बड़ी क्षमता वाली उपयोगी Machinery हैं लेकिन कुछ सीमाएं हैं।
  • Computer केवल वही काम कर सकता है, जिसे करने के लिए आप उसे निर्देश देते हैं।
  • कम्प्यूटर स्वयं सूचना उत्पन्न नहीं कर सकता।
  • अगर आप Computer को गलत Data देते हैं, तो यह आपको गलत जानकारी देने वाला है।
  • Computer गलत निर्देशों को ठीक करने में असमर्थ है। Computer स्वयं निर्णय नहीं ले सकता
  • Computer  एक Electronic Machine है जो कच्चे Data को संसाधित करती है और सार्थक जानकारी देती ह
  • Computer ‘ नाम लैटिन शब्द “COMPUTARE” से लिया गया है जिसका अर्थ है ‘गणना’ करना।
  • इनपुट → प्रक्रिया → आउटपुट Computer का मूल कार्य सिद्धांत है।
  • Computer  की कुछ विशेष विशेषताएं हैं: तेज काम, सटीक परिणाम, उच्च store  क्षमता, परिश्रम आदि।
  • घर, स्कूल, कॉलेज, ऑफिस, बैंक, पुस्तकालय, अस्पताल आदि हर जगह Computer का उपयोग किया जाता है।

 

 

BASIC PARTS OF COMPUTER

Basic Components
BASIC PARTS OF COMPUTER

एक छोटा Computer जिसे एक व्यक्ति के काम पर या घर पर उपयोग करने के लिए डिज़ाइन किया गया है, पर्सनल Computer या पीसी कहलाता है। आजकल, Computer विभिन्न आकारों और आकारों में उपलब्ध हैं। पर्सनल Computer के दो सामान्य प्रकार हैं

  1. डेस्कटॉप Computer
  2. लैपटॉप Computer

ये दो प्रकार के पर्सनल Computer (पीसी और लैपटॉप ) आज की दुनिया में सबसे अधिक उपयोग किए जाते हैं।

desk computer

desk computer पूरी दुनिया में सबसे अधिक उपयोग किए जाने वाले Computer हैं। इन Computerों का उपयोग हर जगह किया जाता है जैसे घर, स्कूल, कार्यालय, दुकान, बैंक आदि में। इस प्रकार के Computer लैपटॉप Computer से बड़े और भारी होते हैं। इसलिए, उन्हें आसानी से इधर-उधर नहीं ले जाया जा सकता है। इस प्रकार के Computer में की-बोर्ड, माउस, Monitor और सिस्टम यूनिट अलग-अलग आते हैं।

laptop computer

लैपटॉप Computer आकार में छोटे और हल्के Computer होते हैं। इन Computerों को गोद में इस्तेमाल किया जा सकता है। इसलिए उन्होंने लैपटॉप Computer का नाम रखा है।

लैपटॉप Computer को आसानी से एक जगह से दूसरी जगह ले जाया जा सकता है। ये Computer बैटरी से चलते हैं। इस प्रकार के Computer में की-बोर्ड, टचपैड, Monitor और सिस्टम यूनिट जुड़े होते हैं। इन Computerों में एक बिल्ट-इन keyboard और एक पॉइंटिंग डिवाइस के रूप में एक बिल्ट-इन ट्रैकबॉल होता है। डेस्कटॉप Computer की तुलना में लैपटॉप Computer अधिक महंगे हैं।

Basic parts of computer

सिस्टम यूनिट, Monitor, keyboard, माउस, टचपैड, स्पीकर, एसी (अल्टरनेट करंट) एडॉप्टर और पावर कॉर्ड को Computer के मूल भाग के रूप में जाना जाता है। डेस्कटॉप Computer और लैपटॉप के बीच कुछ हिस्से अलग होते हैं। डेस्कटॉप और लैपटॉप Computer के सभी मूल भागों को Computer हार्डवेयर माना जाता है।

इन मूल भागों के अलावा, अन्य हार्डवेयर भाग हैं जो Computer केस के अंदर स्थित होते हैं। कुछ परिधीय उपकरण जैसे प्रिंटर, स्कैनर, वेबकैम आदि भी Computer सिस्टम को अधिक उपयोगी बनाने के लिए हैं।

Basic Parts of the Desktop Computer

Desktop Computer के मूल भाग सिस्टम यूनिट (जिसे Computer केस भी कहा जाता है), Monitor, keyboard, माउस और पावर कॉर्ड हैं। जब आप किसी डेस्कटॉप Computer को देखते हैं तो आप तुरंत उन भागों को देख सकते हैं।

Monitor

Monitor Computer का एक आउटपुट डिवाइस है। इसे विजुअल डिस्प्ले यूनिट (VDU) भी कहा जाता है। यह Computer के प्रोसेस्ड रिजल्ट को दिखाता है। Monitor में ऑन/ऑफ बटन और अलग-अलग कंट्रोल बटन होते हैं। एक Monitor एक तार के साथ सिस्टम यूनिट से जुड़ा होता है। यह एक सॉफ्ट कॉपी आउटपुट डिवाइस है।

keyboard

की-बोर्ड Computer का एक input device है। एड इसका उपयोग Computer में Data और निर्देशों को इनपुट करने के लिए किया जाता है। एक keyboard एक तार के साथ मदर बोर्ड से जुड़ा होता है।

keyboard में विभिन्न keys होती हैं जैसे की

  1. Alphabet
  2. Number
  3. Other special keys

यह Data और निर्देश को उस रूप में परिवर्तित करता है जिस रूप में Computer समझ सकता है।

Mouse

माउस भी Computer का एक input device है। इसका उपयोग Monitor पर वस्तुओं को इंगित करने के लिए किया जाता है। माउस की सहायता से आप Computer को कमांड दे सकते हैं। यह हथेली के आकार का input device है जिसे Monitor पर तीर जैसी संरचना को नियंत्रित करने के लिए समतल सतह पर घुमाया जाता है।

System unit (Computer Case)

सिस्टम यूनिट को Computer केस या सीपीयू टावर भी कहा जाता है। यह एक बड़ा बॉक्स होता है जिसमें Computer सिस्टम के मुख्य घटक होते हैं। इस बॉक्स में मदरबोर्ड, हार्ड डिस्क और अन्य डिवाइस शामिल हैं। सिस्टम यूनिट के आगे और पीछे, आप बटन, सॉकेट और स्लॉट की संख्या देख सकते हैं।

हर Computer में बटन, स्लॉट और सॉकेट अलग-अलग होते हैं। हालाँकि, अधिकांश डेस्कटॉप Computerों में मूल बटन, स्लॉट और सॉकेट समान होते हैं।

Power cord

पावर कॉर्ड Computer केसिंग में पावर आउटलेट और पावर सप्लाई यूनिट के बीच की कड़ी है। यदि पावर कॉर्ड को Computer में प्लग नहीं किया गया है, तो Computer चालू नहीं होगा। पावर कॉर्ड का उपयोग Monitor और अन्य परिधीय उपकरणों जैसे स्पीकर, प्रिंटर, स्कैनर आदि को बिजली की आपूर्ति के लिए भी किया जाता है।

Basic parts of Laptop Computer

Laptop Computer के हिस्से मूल रूप से डेस्कटॉप के समान होते हैं लेकिन वे डेस्कटॉप Computer की तुलना में छोटे होते हैं। लैपटॉप Computer के मूल भाग एक Monitor, keyboard, टचपैड, केसिंग, स्पीकर, बैटरी और एसी एडॉप्टर हैं। जिन्हें नीचे संक्षेप में समझाया गया है। लैपटॉप एक पोर्टेबल Computer है क्योंकि इसे आसानी से एक जगह से दूसरी जगह ले जाया जा सकता है। इसका उपयोग वहां किया जा सकता है जहां बिजली नहीं है क्योंकि इसमें एक बैटरी है जो इसे बैकअप पावर प्रदान करती है।

Monitor/ Screen- यह डेस्कटॉप Monitor की तरह एक बेसिक आउटपुट डिवाइस है जो Computer के आउटपुट को प्रदर्शित करता है।

Keyboard- यह एक बेसिक input device है। डेस्कटॉप keyboard की तरह, इसका उपयोग Computer में Data और निर्देशों को इनपुट करने के लिए किया जाता है।

Speaker- लैपटॉप के स्पीकर आमतौर पर छोटे होते हैं और स्क्रीन या लैपटॉप की बॉडी में निर्मित होते हैं। स्पीकर ऑडियो (ध्वनि) आउटपुट उत्पन्न करते हैं।

Touchpad- इसे ट्रैकपैड के नाम से भी जाना जाता है। यह डेस्कटॉप Computer के माउस का विकल्प है। इसका कार्य डेस्कटॉप माउस के समान है।

टचपैड के नीचे के बटन बाएँ और दाएँ माउस बटन की तरह काम करते हैं।

Laptop Battery- बैटरी लैपटॉप को पावर देती है। बैटरी की मदद से, लैपटॉप पावर एडॉप्टर से पावर प्राप्त किए बिना लगभग 2-6 घंटे काम करता है।

AC Adaptor – यह लैपटॉप के लिए विद्युत शक्ति का स्रोत है। यह लैपटॉप को पावर सप्लाई करता है और बैटरी चार्ज करता है।

Casing – यह लैपटॉप की बॉडी है जिसके अंदर लैपटॉप के सभी मुख्य घटक समाहित होते हैं। यह एक डेस्कटॉप Computer केस की तरह है। मदरबोर्ड, सीपीयू, हार्ड डिस्क, रैम (रैंडम एक्सेस मेमोरी) और अन्य डिवाइस केसिंग के अंदर समाहित हैं।

How to use the Touchpad on a laptop computer?

  • स्क्रीन पर पॉइंटर ले जाने के लिए, अपनी अंगुली को टचपैड पर ले जाएं।
  • SCREEN  पर किसी वस्तु का चयन करने के लिए, अपनी तर्जनी से एक बार बायां बटन दबाएं और फिर उसे छोड़ दें।
  • स्क्रीन पर वस्तुओं को खींचने के लिए, अपनी तर्जनी के साथ बाएं बटन को दबाकर रखें और दूसरी उंगली को टचपैड पर ले जाएं। जब ऑब्जेक्ट को आवश्यक स्थान पर ले जाया जाता है तो बाएं बटन को छोड़ दें।
  • डबल-क्लिक करने के लिए, बाएं बटन को अपनी तर्जनी से दो बार तेजी से दबाएं और छोड़ें।
  • राइट-क्लिक करने के लिए, अपनी मध्यमा उंगली से दायां बटन दबाएं और छोड़ें।

Important Points to personal computer

  • एक पर्सनल Computer एक व्यक्ति के लिए घर या कार्यालय में काम करने के लिए डिज़ाइन किया गया है।
  • एक डेस्कटॉप Computer एक पर्सनल Computer है जिसे डेस्कटॉप पर फिट करने के लिए डिज़ाइन किया गया है।
  • लैपटॉप Computer भी एक पर्सनल Computer है जिसे मोबाइल उपयोग के लिए डिज़ाइन किया गया है।
  • डेस्कटॉप Computer और लैपटॉप Computer के सभी भौतिक भागों को हार्डवेयर कहा जाता है।
  • डेस्कटॉप Computer के मूल भाग Computer केस, Monitor, keyboard, माउस और पावर कॉर्ड हैं।
  • लैपटॉप Computer के मूल भाग Monitor, keyboard, टचपैड, स्पीकर, बैटरी, एसी एडॉप्टर और केसिंग हैं।
  • keyboard एक प्राथमिक input device है जिसका उपयोग टेक्स्ट के साथ-साथ संख्याओं को Computer में इनपुट करने के लिए किया जाता है।
  • माउस एक हथेली के आकार का input device है जिसके शीर्ष पर दो या दो से अधिक क्लिक करने वाले बटन होते हैं।
  • Monitor एक सॉफ्ट कॉपी आउटपुट डिवाइस है।
  • लैपटॉप में टचपैड डेस्कटॉप Computer के माउस का विकल्प होता है।
  • पावर कॉर्ड Computer केसिंग में पावर आउटलेट और पावर सप्लाई यूनिट के बीच की कड़ी है।

 

 

 

Input device

Input device in computer
Input device in computer

Computer के physical and mechanical भाग जिन्हें हम देख सकते हैं, महसूस कर सकते हैं और स्पर्श कर सकते हैं, वे Computer हार्डवेयर हैं। आने वाली इकाइयों के बारे में आप तीन प्रकार के हार्डवेयर के बारे में जानेंगे।

1- input device या हार्डवेयर (माउस, keyboard, जॉयस्टिक आदि)

2-। हार्डवेयर या उपकरणों को संसाधित करना सीपीयू और उसके अनुभाग।

सी. आउटपुट हार्डवेयर: Monitor, प्रिंटर, स्पीकर इत्यादि। डी। स्टोरेज डिवाइस: हार्ड डिस्क, पेन ड्राइव, सीडी, डीवीडी आदि।

Input devise or hardware

एक Computer इनपुट के रूप में Data और निर्देश लेता है। Computer को इनपुट देने के लिए जिन उपकरणों का उपयोग किया जाता है, उन्हें input device कहा जाता है। आप input device की मदद से Computer को निर्देश दे सकते हैं। input device के बिना Computer चलाना संभव नहीं है।

Computer में विभिन्न प्रकार के input device का उपयोग किया जाता है। सबसे अधिक उपयोग किए जाने वाले input device keyboard और माउस हैं।

आमतौर पर उपयोग किए जाने वाले कुछ input device नीचे दिए गए हैं:

  1. Keyboard
  2. Mouse
  3. Touchpad
  4. Touch screen
  5. Scanner
  6. Joystick
  7. Web Camera
  8. Microphone

Keyboard

की-बोर्ड Computer का बेसिक input device होता है। आप keyboard का उपयोग करके Computer में Data और निर्देश दर्ज कर सकते हैं। keyboard पर अलग-अलग keys होती हैं जो अलग-अलग कार्य करती हैं। एक सामान्य की-बोर्ड में लगभग 104 keys होती हैं। उनके कार्यों के आधार पर, keyboard पर कीज़ को पाँच अलग-अलग समूहों में विभाजित किया जा सकता है। वो हैं:

  • Alphanumeric keys
  • Navigation keys
  • Control keys
  • Numeric keypad
Keyboard
Keyboard

Alphanumeric keys

इन keys में अक्षर (वर्णमाला), संख्याएँ, और विशेष वर्ण कुंजियाँ शामिल हैं। z से 26 अक्षर कुंजियाँ हैं और 0 से 9 तक 10 संख्या कुंजियाँ हैं। विशेष कुंजियाँ संख्या keys के ऊपरी आधे भाग में स्थित होती हैं। इन वर्णों को टाइप करने के लिए, Shift कुंजी दबाए रखें और वर्ण कुंजी दबाएं.

Control keys

इन keys में CTRL, ALT, Windows लोगो कुंजी और ESC कुंजियाँ शामिल हैं। कंप्यूटर में विशेष कार्य करने के लिए इन keys का उपयोग अकेले या अन्य keys के संयोजन में किया जाता है।

Function keys

इन keys में F1, F2, F3, और इसी तरह, F12 तक शामिल हैं। फंक्शन keys का उपयोग कंप्यूटर में विशिष्ट कार्यों को करने के लिए किया जाता है। इन चाबियों के कार्य एक कार्यक्रम से दूसरे कार्यक्रम में भिन्न होते हैं।

Navigation keys

इन keys में एरो कुंजियाँ, होम, एंड, पेज यूपी, पेज डाउन, और इन्सर्ट कुंजियाँ शामिल हैं। इन चाबियों का उपयोग दस्तावेजों में घूमने के लिए किया जाता है। दस्तावेज़ में कर्सर को स्थानांतरित करने के लिए तीर keys का उपयोग किया जाता है।

Numeric keypad

न्यूमेरिक कीपैड पर 0 से 9 नंबर होते हैं। संख्यात्मक कीपैड से, आप जल्दी से संख्याएँ टाइप कर सकते हैं। इन keys का उपयोग करने के लिए आपको Num Lock कुंजी को दबाना होगा।

Some Special Keys

इनके अलावा, कुछ विशेष Keys, जिनका उपयोग दस्तावेज़ तैयार करते समय किया जाता है, का वर्णन नीचे किया गया है

Delete key

दस्तावेज़ से अक्षर, शब्द, वाक्य या वाक्य जैसी चीज़ों को हटाने के लिए Delete key का उपयोग किया जाता है। जब आप कोई गलती करते हैं, तो आप Delete key का उपयोग करके उस गलती को दूर कर सकते हैं। जब आप डिलीट की दबाते हैं, तो यह कर्सर के दाईं ओर के अक्षर को मिटा देता है।

Backspace key

बैकस्पेस कुंजी दस्तावेज़ से अक्षर, शब्द या वाक्य को भी मिटा देती है। जब आप Backspace key दबाते हैं, तो यह कर्सर के बाईं ओर के अक्षर को मिटा देता है।

Spacebar key

यह की-बोर्ड की सबसे बड़ी कुंजी होती है। इस कुंजी का प्रयोग अक्षरों, संख्याओं या शब्दों के बीच Spacebar रिक्त स्थान डालने के लिए किया जाता है।

Enter key

वर्तमान लाइन के अंत तक पहुँचने से पहले कर्सर को अगली पंक्ति में ले जाने के लिए इस कुंजी का उपयोग किया जाता है। एंटर कुंजी का उपयोग कंप्यूटर को दिए गए निर्देश की पुष्टि करने के लिए भी किया जाता है। कंप्यूटर को कोई भी निर्देश देने के बाद आप एंटर की दबा सकते हैं।

Shift key

आप अपने कीबोर्ड पर दो Shift key देख सकते हैं। इस कुंजी का उपयोग विभिन्न प्रयोजनों के लिए अन्य keys के संयोजन में किया जाता है। इसका उपयोग बड़े अक्षरों में टाइप करने के लिए किया जाता है। और इसका उपयोग विशेष वर्ण टाइप करने के लिए भी किया जाता है। विशेष वर्णों का अर्थ है संख्या keys और विराम चिह्नों पर ऊपरी वर्ण।

Shift key को दबाए रखें और फिर अल्फाबेट की दबाएं, आपके द्वारा टाइप किए गए अक्षर बड़े अक्षरों में दिखाए जाएंगे। जैसे विशेष वर्ण टाइप करने के लिए! @#$%& ()+ Shift key को दबाए रखें और फिर उस कैरेक्टर की को दबाएं। विशेष वर्ण संख्या keys के ऊपरी आधे भाग पर स्थित होते हैं।

Caps lock key

कैप्स लॉक की का उपयोग सभी अक्षरों को कैपिटल या अपर केस में टाइप करने के लिए किया जाता है। जब कैप्स लॉक कुंजी चालू होती है, तो कीबोर्ड के ऊपरी दाएं कोने पर एक संकेतक लाइट दिखाई देती है। आप कैप्स लॉक की को दोबारा दबाकर बंद कर सकते हैं।

Mouse

माउस एक बेसिक इनपुट डिवाइस है। इसे पॉइंटिंग डिवाइस भी कहा जाता है। इसका उपयोग स्क्रीन पर वस्तुओं को इंगित करने और कंप्यूटर को कमांड देने के लिए किया जाता है। जब आप माउस को माउस पैड पर ले जाते हैं, तो Monitor स्क्रीन पर माउस पॉइंटर संबंधित दिशा में चलता है। आम तौर पर, एक माउस में तीन बटन होते हैं: एक बायाँ बटन, एक दायाँ बटन और एक स्क्रॉल व्हील।

Mouse Actions

चल रहे प्रोग्राम के आधार पर अलग-अलग बटन के अलग-अलग कार्य होते हैं। इस स्क्रॉल व्हील का उपयोग कई उद्देश्यों के लिए किया जाता है जैसे वेबसाइटों में लंबे दस्तावेज़ों और लंबे पृष्ठों को स्क्रॉल करना, ज़ूम इन और आउट करना आदि। आप से दूर)।

Holding and Moving the Mouse

अपने माउस को माउस पैड पर अपने कीबोर्ड के पास रखें। बाईं बटन पर अपनी तर्जनी और अपने अंगूठे को किनारे पर टिकाकर माउस को धीरे से पकड़ें। माउस को ले जाने के लिए, इसे धीरे-धीरे किसी भी दिशा में स्लाइड करें। जैसे ही आप माउस को घुमाते हैं, एक पॉइंटर आपकी मॉनीटर स्क्रीन पर उसी दिशा में चलता है।

Mouse Actions

माउस का प्रयोग कंप्यूटर को निर्देश देने के लिए किया जाता है। कंप्यूटर दिए गए निर्देशों के अनुसार कार्य करता है। आप विभिन्न माउस क्रियाओं का उपयोग करके कंप्यूटर को निर्देश दे सकते हैं। मूल रूप से, पाँच माउस क्रियाएँ हैं। वे इस प्रकार हैं

  • Pointing
  • Clicking (single-clicking)
  • Double-clicking
  • Right-Clicking
  • Dragging

Pointing

Monitor स्क्रीन पर किसी भी आइटम को इंगित करने के लिए माउस पॉइंटर को ले जाना पॉइंटिंग कहलाता है। किसी भी आइटम को इंगित करने के लिए, अपने माउस को ले जाएं ताकि पॉइंटर उस आइटम को छूता हुआ प्रतीत हो। जब आप किसी आइटम की ओर इशारा करते हैं, तो अक्सर उस आइटम का वर्णन करने के लिए एक छोटा बॉक्स दिखाई देता है।

Clicking

बाईं माउस बटन को एक बार दबाने और उसे छोड़ देने को क्लिक करना कहते हैं। क्लिक को कभी-कभी सिंगल-क्लिकिंग या लेफ्ट-क्लिकिंग कहा जाता है। किसी आइटम पर क्लिक करने के लिए, स्क्रीन पर आइटम को इंगित करें, और फिर बाईं माउस बटन को दबाकर छोड़ दें। क्लिकिंग का उपयोग अक्सर किसी आइटम का चयन करने या कंप्यूटर में मेनू खोलने के लिए किया जाता है।

Double-Clicking

बाईं माउस बटन को दो बार जल्दी से दबाने और रिलीज करने को double-clicking कहा जाता है। किसी आइटम पर डबल-क्लिक करने के लिए, आइटम को इंगित करें और फिर बाएं बटन को दो बार तेज़ी से दबाएं। कंप्यूटर पर आइटम (फाइलें, फोल्डर, या प्रोग्राम) खोलने के लिए अक्सर डबल-क्लिक का उपयोग किया जाता है। उदाहरण के लिए, आप कोई प्रोग्राम प्रारंभ कर सकते हैं या किसी फ़ोल्डर या फ़ाइल को desktop पर उसके आइकन पर डबल-क्लिक करके खोल सकते हैं।

Right-Clicking

राइट माउस बटन को एक बार दबाने और उसे रिलीज करने को राइट क्लिक कहते हैं। किसी आइटम पर राइट-क्लिक करने के लिए, आइटम को इंगित करें, और फिर दायां माउस बटन दबाएं और छोड़ें। किसी आइटम पर राइट-क्लिक करना आमतौर पर उन आदेशों की एक सूची प्रदर्शित करता है जो आप आइटम के साथ कर सकते हैं। उदाहरण के लिए, जब आप अपने desktop पर कंप्यूटर आइकन पर राइट-क्लिक करते हैं, तो यह एक मेनू प्रदर्शित करता है जिससे आप इसे खोल सकते हैं, इसे प्रबंधित कर सकते हैं, इसे हटा सकते हैं, इसका नाम बदल सकते हैं, या इसके गुण देख सकते हैं।

Dragging

माउस के बाएँ बटन को दबाए रखते हुए माउस को हिलाना Dragging कहलाता है। आप आइटम को खींचकर अपनी स्क्रीन के चारों ओर ले जा सकते हैं।

किसी वस्तु को खींचने के लिए

– स्क्रीन पर उस ऑब्जेक्ट को इंगित करें जिसे आप स्थानांतरित करना चाहते हैं।

– बाईं माउस बटन को दबाकर रखें।

– ऑब्जेक्ट को किसी नए स्थान पर ले जाएं, और फिर माउस बटन को छोड़ दें।

Dragging को Dragging एंड ड्रॉपिंग भी कहा जाता है। फ़ाइलों और फ़ोल्डरों को एक स्थान से दूसरे स्थान पर ले जाने के लिए अक्सर Dragging का उपयोग किया जाता है।

TouchPad

यह एक स्पर्श-संवेदनशील पैड है जिसका उपयोग पॉइंटिंग डिवाइस के रूप में किया जाता है। अपनी उंगलियों को TouchPad पर रखकर, आप वस्तुओं को इंगित कर सकते हैं और कंप्यूटर को आदेश दे सकते हैं। इसका उपयोग ज्यादातर कुछ पोर्टेबल कंप्यूटर जैसे लैपटॉप कंप्यूटर, पामटॉप कंप्यूटर, नोटबुक कंप्यूटर आदि में किया जाता है।

Touch Screen

यह एक टच-सेंसिटिव स्क्रीन है। आप Monitor स्क्रीन पर वस्तुओं का चयन करने और कंप्यूटर को कमांड देने के लिए अपनी उंगलियों का उपयोग कर सकते हैं। इस स्क्रीन पर आप माउस की जगह अपनी उंगलियों का इस्तेमाल कर सकते हैं। यह एक पॉइंटिंग डिवाइस के रूप में माउस और लाइट पेन के उपयोग की जगह लेता है। टच स्क्रीन का उपयोग ज्यादातर पोर्टेबल कंप्यूटर जैसे लैपटॉप कंप्यूटर, पामटॉप कंप्यूटर, नोटबुक कंप्यूटर आदि पर किया जाता है।

Joystick

जॉयस्टिक एक इनपुट डिवाइस है। इसका उपयोग अक्सर कंप्यूटर गेम खेलने के लिए किया जाता है। आप कंप्यूटर को मूव कर के कमांड दे सकते है। इसमें एक या एक से अधिक पुशबटन होते हैं जिनके माध्यम से आप कंप्यूटर गेम खेल सकते हैं और नियंत्रित कर सकते हैं।

Scanner

एक Scanner एक इनपुट डिवाइस है जो छवियों या मुद्रित पाठ की प्रतिलिपि बनाता है और उन्हें कंप्यूटर में डालता है। Scanner का उपयोग करके, आप डेटा को कीबोर्ड के माध्यम से टाइप किए बिना सीधे कंप्यूटर में इनपुट कर सकते हैं। तो, Scanner को डायरेक्ट एंट्री या नॉन-कीबोर्ड इनपुट डिवाइस भी कहा जाता है।

Web camera

Web camera एक इनपुट डिवाइस है जो तस्वीरें लेता है और उन्हें कंप्यूटर में डालता है। इसका उपयोग वीडियो कैप्चर करने के लिए भी किया जाता है। यह आमतौर पर USB (यूनिवर्सल सीरियल बस) पोर्ट का उपयोग करके कंप्यूटर से जुड़ा होता है। यह इंटरनेट चैटिंग में व्यापक रूप से उपयोग किया जाता है। इसका उपयोग याहू जैसे मैसेंजर कार्यक्रमों में किया जाता है! मैसेंजर, विंडोज लाइव मैसेंजर ud, और स्काइप।

Microphone

Microphone एक इनपुट डिवाइस है जिसका उपयोग कंप्यूटर में ध्वनि इनपुट करने के लिए किया जाता है। Microphone का उपयोग करके, आप कंप्यूटर में भाषण और गाने रिकॉर्ड कर सकते हैं। इसका उपयोग इंटरनेट वॉयस चैटिंग में भी किया जाता है।

Important Points to Remember

  • इनपुट डिवाइस का उपयोग कंप्यूटर को डेटा और निर्देश देने के लिए किया जाता है।
  • की-बोर्ड और चूहे बुनियादी इनपुट डिवाइस हैं।
  • ट्रैकबॉल का इस्तेमाल ज्यादातर लैपटॉप कंप्यूटर पर किया जाता है।
  •  टच स्क्रीन का उपयोग करके, आप वस्तुओं का चयन करने और कंप्यूटर को कमांड देने के लिए अपनी उंगलियों का उपयोग कर सकते हैं।
  • जॉयस्टिक का उपयोग कंप्यूटर गेम खेलने के लिए किया जाता है।
  • Web camera का इस्तेमाल ज्यादातर मैसेंजर प्रोग्राम जैसे याहू मैसेंजर, विंडोज लाइव मैसेंजर आदि में किया जाता है।
  • Microphone एक ऑडियो इनपुट डिवाइस है।

 

 

PROCESSING DEVICES

computer input data को सार्थक जानकारी में परिवर्तित करता है जिसे प्रोसेसिंग कहा जाता है। प्रोसेसिंग कंप्यूटर का मुख्य कार्य है। प्रोसेसिंग Central Processing Unit (सीपीयू) में की जाती है। CPU कंप्यूटर की मुख्य प्रोसेसिंग यूनिट है।

What is Central Processing Unit (CPU)?

Central Processing Unit को बस सीपीयू कहा जाता है। यह कंप्यूटर का मुख्य घटक है और इसे प्रोसेसर भी कहा जाता है। कंप्यूटर CPU पर सभी प्रकार की प्रोसेसिंग करता है। निर्देश देता है और कंप्यूटर के अन्य भागों को बताता है कि क्या करना है। इसे कंप्यूटर का दिमाग या कंप्यूटर का इंजन माना जाता है।

सीपीयू सीधे मदरबोर्ड पर सीपीयू सॉकेट से जुड़ा होता है। मदरबोर्ड एक बड़ा सर्किट बोर्ड है जो कंप्यूटर के हर हिस्से को जोड़ता है। मदरबोर्ड सिस्टम यूनिट (केसिंग बॉक्स) के अंदर स्थित होता है।

CPU की प्रोसेसिंग स्पीड को MegaHertz (MHZ) या Gigahertz (GHz) में मापा जाता है। इसे माइक्रोप्रोसेसर की गति भी कहते हैं।

सीपीयू के आधार पर कंप्यूटर की कार्य क्षमता और गति। सीपीयू निर्धारित करता है कि कंप्यूटर कितनी तेजी से निर्देशों को निष्पादित कर सकता है।

आजकल विभिन्न प्रकार के CPU जैसे Intel Celeron, Intel Core 2 Duo, Intel Dual Core, Intel Core i3, Core i5, Core i7, Core i9 इत्यादि बाजार में उपलब्ध हैं।

What is the Function of CPU?

CPU के मुख्य कार्य इस प्रकार हैं-

  1. यह कंप्यूटर के सभी संसाधनों का प्रबंधन करता है।
  2. यह प्रोग्राम निर्देशों को निष्पादित करता है।
  3. यह निर्णय लेता है।
  4. यह गणना करता है।

What are the Components of a CPU?

CPU के तीन मुख्य घटक होते हैं। वो हैं-

  1. कंट्रोल यूनिट (सीयू)
  2. अंकगणितीय तर्क इकाई (ALU)
  3. मुख्य मेमोरी या मेमोरी यूनिट (एमयू)

CPU की संरचना को निम्न चित्र में दिखाया गया है।

What are the Components of a CPU?

इन इकाइयों को उनके काम के आधार पर बनाया गया है। प्रत्येक इकाई के अपने कुछ विशिष्ट कार्य होते हैं।

– Control Unit (CU)

Control Unit (CU) सीपीयू का सबसे महत्वपूर्ण भाग है। यह सीपीयू के अन्य भागों के साथ-साथ कंप्यूटर की अन्य सभी इकाइयों की गतिविधियों को नियंत्रित और समन्वयित करता है। यह कंप्यूटर के अंदर डेटा की संपूर्ण प्रोसेसिंग को नियंत्रित करता है। यह इनपुट डिवाइस से डेटा और निर्देश प्राप्त करता है और उन्हें मुख्य मेमोरी में स्टोर करता है।

– Arithmetic Logic Unit (ALU)

Arithmetic Logic Unit (ALU) का एक और महत्वपूर्ण भाग है। यह डेटा पर सभी अंकगणितीय गणना और तार्किक संचालन करता है। अंकगणितीय गणनाओं में, ALU जोड़, घटाव, गुणा और भाग करता है। तार्किक संचालन में, ALU संख्यात्मक डेटा के साथ-साथ वर्णानुक्रमिक डेटा की तुलना करता है।

एक तार्किक इकाई आमतौर पर छह तार्किक संबंधों को पहचान सकती है: इसके बराबर, इससे कम, इससे बड़ा, कम या बराबर, इससे बड़ा या इसके बराबर, और इसके बराबर नहीं। उदाहरण के लिए, यह जाँचता है कि पहली संख्या दूसरी से बड़ी है, दूसरी से कम है, दूसरी के बराबर है, आदि।

– Main Memory

Main Memory को कंप्यूटर की प्राइमरी मेमोरी या इंटरनल मेमोरी भी कहा जाता है। इस मेमोरी का उपयोग प्रोसेसिंग के दौरान प्रोग्राम (निर्देश) और डेटा को स्टोर करने के लिए किया जाता है। सीपीयू प्राथमिक मेमोरी से डेटा और प्रोग्राम को जल्दी से पढ़/लिख सकता है। प्राइमरी मेमोरी कंप्यूटर केस के अंदर मदरबोर्ड पर फिक्स होती है। प्राइमरी मेमोरी दो प्रकार की होती है। वो हैं:

  • Read-Only Memory (ROM)
  • Random Access Memory (RAM)ag aber ste zainit

 

  • Read-Only Memory (ROM)

Read-Only Memory (ROM) कंप्यूटर केस के अंदर मदरबोर्ड पर फिक्स होती है। यह स्थायी या गैर-वाष्पशील मेमोरी है। कंप्यूटर के स्विच ऑफ होने पर भी इसका डेटा नष्ट नहीं होता है। यह केवल-पढ़ने के लिए मेमोरी है जिससे आप रोम से डेटा पढ़ सकते हैं लेकिन इसमें डेटा नहीं लिख सकते हैं। ROM कंप्यूटर को शुरू करने (बूटिंग प्रक्रिया) के लिए निर्देशों को संग्रहीत करता है। कंप्यूटर के निर्माण के समय इन निर्देशों को संग्रहीत किया जाता है।

  • Random Access Memory (RAM)

Random Access Memory (RAM) मेमोरी कार्ड स्लॉट में मदरबोर्ड पर फिक्स होती है। यह एक अस्थायी या अस्थिर स्मृति है। जब हम कंप्यूटर को स्विच ऑफ करते हैं तो RAM में स्टोर डेटा मिट जाता है। RAM मेमोरी को रीड और राइट करती है ताकि आप इससे डेटा पढ़ सकें और उसमें डेटा भी लिख सकें। RAM कंप्यूटर की वर्किंग मेमोरी है क्योंकि प्रोसेसिंग के दौरान प्रोग्राम और डेटा रैम में स्टोर हो जाते हैं।

Important Points to Remember

– सीपीयू कंप्यूटर की मुख्य प्रोसेसिंग यूनिट है।

– माइक्रोप्रोसेसर की प्रोसेसिंग स्पीड मेगाहर्ट्ज़ या गीगा हर्ट्ज़ में मापी जाती है।

– CPU की मुख्य तीन इकाइयाँ होती हैं: CU, ALU और MU

– CU कंप्यूटर के सभी भागों के संचालन को नियंत्रित करता है।

– ALU अंकगणितीय गणना और तार्किक तुलना करता है।

– प्रोसेसिंग के दौरान प्रोग्राम और डेटा को स्टोर करने के लिए मुख्य मेमोरी का उपयोग किया जाता है।

– प्राथमिक मेमोरी दो प्रकार की होती है: ROM और RAM।

OUTPUT DEVICES

computer input data को प्रोसेस करके सार्थक जानकारी उत्पन्न करता है जिससे परिणाम मिलते हैं। वह सार्थक सूचना आउटपुट कहलाती है। वे उपकरण, जो उपयोगकर्ता के लिए आउटपुट प्रदर्शित करते हैं, Output device कहलाते हैं। Output device कंप्यूटर से जानकारी प्राप्त करते हैं और इसे एक ऐसे रूप में अनुवादित करते हैं जिसे हम समझ सकते हैं। आउटपुट टेक्स्ट, ग्राफिक्स, ऑडियो (ध्वनि) और वीडियो के रूप में हो सकता है। विभिन्न स्वरूपों में आउटपुट प्रदर्शित करने के लिए Monitor, Printer, Plotter और स्पीकर जैसे उपकरणों का उपयोग किया जाता है। Monitor, Printer और स्पीकर मूल Output device हैं।

आमतौर पर उपयोग किए जाने वाले कुछ Output device हैं: calon hora at

  1. Monitor
  2. Printer
  3. Speaker
output device in computers
output device in computers

इन Output devices का Full informations नीचे किया गया है-

Monitor

Monitor एक प्राथमिक Output device है। इसे विजुअल डिस्प्ले यूनिट (VDU) भी कहा जाता है। एक Monitor टेक्स्ट, चित्र और वीडियो के रूप में आउटपुट प्रदर्शित करता है। Monitor स्क्रीन पर जो आउटपुट हम देखते हैं उसे सॉफ्ट कॉपी आउटपुट के रूप में जाना जाता है। एक Monitor एक आम टेलीविजन स्क्रीन की तरह दिखता है। Monitor में ऑन/ऑफ बटन और अलग-अलग कंट्रोल बटन होते हैं, ये नियंत्रण बटन हमें Monitor स्क्रीन पर चमक और रंग कंट्रास्ट को समायोजित करने की अनुमति देते हैं।

Monitor तीन मुख्य प्रकार के होते हैं। वो हैं-

  • CRT Monitor
  • LCD Monitor
  • LED Monitor

"computer

आजकल CRT Monitor बाजार में उपलब्ध नहीं हैं। बाजार में अधिकांश मॉनिटर एलसीडी और एलईडी आधारित हैं। LCD (लिक्विड क्रिस्टल डिस्प्ले) Monitor CRT (कैथोड रे ट्यूब) Monitor की तुलना में बहुत कम बिजली की खपत करता है। यह CRT मॉनिटर की तुलना में बहुत हल्का और अधिक पोर्टेबल है। एलसीडी स्क्रीन आपकी आंखों को प्रभावित नहीं करती है। तो, LCD Monitor CRT मॉनिटर की तुलना में अधिक लोकप्रिय हैं।

एलईडी सभी प्रकार के Monitor के लिए नवीनतम तकनीक है। LCD Monitor की तुलना में इसके बहुत सारे फायदे हैं। आज एलईडी Monitor अन्य Monitors की तुलना में सबसे लोकप्रिय हैं।

Printer

Printer एक Output device है जिसका उपयोग आउटपुट को कागज पर प्रिंट करने के लिए किया जाता है। कागज पर आउटपुट को हार्ड कॉपी output कहा जाता है। बाजार में तरह-तरह के Printer उपलब्ध हैं। सबसे अधिक उपयोग किए जाने वाले कुछ Printer डॉट मैट्रिक्स Printer, इंकजेट Printer और लेजर Printer हैं। आज लेजर Printer अन्य Printers की तुलना में सबसे लोकप्रिय है।

Speaker

स्पीकर एक Output device है। कंप्यूटर में स्पीकर का उपयोग आउटपुट के रूप में विभिन्न ध्वनियाँ उत्पन्न करने के लिए किया जाता है। स्पीकर की मदद से आप कंप्यूटर पर बजने वाले संगीत और गाने सुन सकते हैं।

Plotter

Plotter एक कंप्यूटर वेक्टर ग्राफिक Printer है जो हार्ड कॉपी आउटपुट देता है। Plotter वेक्टर ग्राफिक्स का उपयोग करते हैं। आमतौर पर इनका उपयोग कागज पर प्रिंट करने के लिए किया जाता है जो आकार में बहुत बड़ा होता है। Plotter विशेष, रंगीन पेन का उपयोग करके चीजों को प्रिंट करते हैं। ये आम Printer से भी महंगे होते हैं।

important points to remember

  • कंप्यूटर के आउटपुट देने के लिए जिन उपकरणों का उपयोग किया जाता है, उन्हें Output device कहा जाता है।
  • Output device कंप्यूटर से जानकारी प्राप्त करते हैं और इसे एक ऐसे रूप में अनुवादित करते हैं जिसे हम समझ सकते हैं।
  • मॉनिटर, Printer और स्पीकर मूल Output device हैं।
  • आउटपुट टेक्स्ट, ग्राफिक्स, ऑडियो और वीडियो के रूप में हो सकता है।
  • मॉनिटर द्वारा प्रदर्शित आउटपुट को सॉफ्ट कॉपी आउटपुट कहा जाता है।
  • मॉनिटर तीन मुख्य प्रकार के होते हैं: CRT, LCD और LED Monitor।
  • आजकल LCD Monitor CRT मॉनिटर की तुलना में अधिक व्यापक रूप से उपयोग किए जाते हैं।
  • कागज की शीट पर मुद्रित आउटपुट को हार्ड कॉपी आउटपुट कहा जाता है।
  •  स्पीकर साउंड आउटपुट देते हैं।

दोस्तों आप लोगो ने computer kya hai in hindi, computer ka hindi naam kya hai, computer ka full form kya hai, computer kya hota hai, कंप्यूटर हार्डवेयर क्या है उदाहरण दो, computer network kya hai, कंप्यूटर कितने प्रकार का होता है, super computer kya hai, कंप्यूटर क्या है हिंदी, computer ka hindi kya hota hai, कंप्यूटर की विशेषता क्या है के बारे जानकारी अच्छी से समझ में आया होगा अगर आपको किसी समस्या है पोस्ट से जुडी तो कमेंट करना नभुले।

हमारा द्वार सेयर किया हुवा जानकारी आपको कैसेलगता है PLZ कुछ सल्ला सुझाब देना।  आपके सलाह सुझाब मेरेलिए मार्ग दरसन बन सकता है।

 

दूसरी जानकारी

Leave a Comment